Saturday, May 15, 2021
Home Citizen Videos असम के गोरखा जनजाति की एक विशेष खेल जिसे लिंगो पिंग ।

असम के गोरखा जनजाति की एक विशेष खेल जिसे लिंगो पिंग ।

असम के गोरखा जनजाति की एक विशेष खेल जिसे लिंगो पिंग ।

असम के गोरखा जनजाति की एक विशेष खेल जिसे लिंगो पिंग के नाम से जाना जाता है या खेल हर वर्ष दुर्गोत्सव के समय खेला जाता है भारत के अन्य हिस्सों की तरह असम के भारत भूटान सीमावर्ती इलाका के भेलाझार, तामूलपुर मुसलपुर आदि में भी गोरखा जाति की परंपरा को जीवित रखते हुए लिंगो पिंग खेल का आयोजन किया गया । गोरखा संप्रदाय के लोग खुले जगह पर चार बांस के टुकड़े और पटसन के रस्सी से पेड़ के तने में भुला बनाकर वृद्धा पुरुष महिला शिशु सभी झूला में उठकर झूला का आनंद लेते हैं । यह मान्यता है कि रावण को बध कर राम जब लौट आए थे उस समय गोरखा जनजाति द्वारा काफी आनंद बनाया गया था। जिसको परंपरा को आज भी जिंदा रखा गया है। मनोरंजन खेल लिंगो पिंग आज भी दुर्गोत्सव के समय आयोजन किया जाता है।

Report Post

Ajit Rabha
Journalist from Assam

TRENDING NEWS

LATEST NEWS